काशी में कोरोना : 22 पीएसी जवानों समेत मिले रिकॉर्ड 60 संक्रमित, फिर भी बाबा विश्वनाथ के दरबार में उमड़ी भीड़

0
45

 

वाराणसी. 55 घंटे प्रदेशव्यापी प्रतिबंध के बाद सावन माह के दूसरे सोमवार को बाबा विश्वनाथ के दर्शन के लिए लोगों की भीड़ उमड़ी। सुबह से ही बाबा के भक्त दर्शन पूजन के लिए गंगा का पवित्र जल लेकर मंदिर परिसर पहुंच गए। लेकिन कोरोना संकटकाल के चलते बनारस की गलियां कांवड़ियों से सूनी हैं। सामान्य दिनों में दो लाख से अधिक श्रद्धालु यहां पहुंचते थे। लेकिन अब महज 30 फीसदी लोग दर्शन के लिए आ रहे हैं। नए नियमों के तहत अब शुक्रवार रात से सोमवार सुबह तक मंदिर में आम लोगों को दर्शन नहीं मिलेगा। यह प्रदेश सरकार द्वारा घोषित वीकेंड लॉकडाउन के चलते किया गया है।

एक बार 5 को प्रवेश की अनुमति

मंदिर के सीओ ज्ञानवापी अर्जुन सिंह ने बताया कि सोमवार सुबह 5 बजे से विश्वनाथ मंदिर के कपाट भक्तों के लिए खोल दिया गया। मंदिर शुक्रवार तक भक्तों के लिए खुला रहेगा। यहां बैरिकेडिंग की गई है। रेड कारपेट बिछाया गया है। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए सुरक्षा घेरा बनाया गया है। एक बार मंदिर में 5 लोगों को ही प्रवेश की अनुमति है। मंदिर में किसी भी दीवार या रेलिंग को छूना मना है। बाबा को जल चढ़ा सकते हैं, लेकिन स्पर्श करने पर रोक है। बिना मास्क के किसी को मंदिर में प्रवेश नहीं मिलेगा। नियमों को न मानने वालों पर जुर्माना भी लगाया जाएगा।

श्रद्धालु बोला- आसानी से मिल रहा दर्शन
एक श्रद्धालु ने बताया कि बाबा विश्वनाथ के त्रिशूल पर विश्व टिका है। इस बार भीड़ बहुत कम है। बाबा का दर्शन आसानी से हो रहा है। इसके साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन किया जा रहा है। हमने बाबा से अपने शिक्षा के साथ ही वैश्विक महामारी कोरोना को समाप्त करने के लिए प्रार्थना की है।

एक दिन में 60 मरीज बढ़े
रविवार को एक दिन में सर्वाधिक 60 नए केस सामने आए। इनमें पीएसी की 34वीं वाहिनी के 22 जवान भी शामिल हैं। इनका एंटीजन टेस्ट किया गया था। आज सभी का आरटी पीसीआर जांच होगी। अब तक जिले में 858 संक्रमित मिल चुके हैं। राहत की बात है कि, 438 लोग स्वस्थ हो चुके हैं। 27 लोगों की मौत हुई है। जुलाई माह के 12 दिनों में 384 पॉजिटिव केस मिले हैं।