देश

इस सरकारी स्कीम में 50 रुपयों से होगी 1 लाख की कमाई, ऐसे उठाएं फायदा

नई दिल्ली।

Post Office Recurring Deposit Scheme: कोरोना काल ( Coronavirus ) में उपजे आर्थिक संकट के चलते हर कोई ऐसी जगह निवेश ( Investment ) करना चाहता है, जहां अच्छे रिटर्न के साथ पैसों की सुरक्षा की गारंटी भी मिले। अगर आप भी निवेश की सोच रहे हैं तो आपके के लिए पोस्ट ऑफिस ( Post Office Scheme ) की रेकरिंग डिपॉजिट (RD) स्कीम काफी फायदेमंद साबित हो सकती है। इस योजना में आपको निश्चित ब्याज तो मिलेगा ही, साथ ही पैसा भी पूरी तरह सुरक्षित रहेगा। बता दें कि Post office में निवेश करते वक्‍त योजना की निवेश अवधि को ध्‍यान में रखना चाहिए। पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट स्कीम ( Post Office Recurring Deposit ) रेकरिंग डिपॉजिट पोस्ट ऑफिस की एक स्कीम है, जिसमें छोटी-छोटी किस्तों में जमा राशि पर अच्छा रिटर्न मिलता है।

क्या है पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट
पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट अकाउंट पांच साल के लिए खोल सकते हैं। फिलहाल इस स्कीम में 5.8 प्रतिशत ब्याज मिल रहा है। बता दें कि भारत सरकार अपनी सभी लघु बचत योजनाओं की ब्याज दर की हर तिमाही पर घोषणा करती है।

पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट के फायदे
पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट स्कीम में तय ब्याज के हिसाब से रिटर्न मिलता है। बता दें कि आरडी में अधिकतम मेच्योरिटी पीरियड 10 साल तक है। पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट ( Post Office RD ) अकाउंट पांच साल के लिए खोल सकते है, लेकिन आप इसे आगे भी बढ़ा सकते हैं। खास बात है कि इसमें आप ऑनलाइन पैसे भी जमा कर सकते हैं। पोस्ट ऑफिस की रेकरिंग डिपॉजिट में में सिंगल अकाउंट और ज्वॉइंट अकाउंट दोनों की सुविधा है

ऐसे बनाएं 1 लाख रुपये
पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट स्कीम में आप हर रोज 50 रुपये की बचत कर मोटा लाभ कमा सकते हैं। अगर आप पोस्ट ऑफिस की आरडी में रोजाना 50 रुपए निवेश करते हैं तो 5 साल बाद यह 1.05 लाख रुपए बन जाएगा।

FPO Scheme: किसान खेती के साथ शुरू कर सकते हैं बिजनेस, सरकार दे रही 15 लाख रुपये

कौन कर सकता है आवेदन
पोस्ट ऑफिस रेकरिंग डिपॉजिट स्कीम के तहत कोई भी व्यक्ति खाता खुलवा सकता है। इसमें व्यक्तिगत और दो वयस्क व्यक्ति एक साथ मिलकर ज्वाइंट आरडी अकाउंट भी खुलवा सकते हैं। बता दें कि आरडी में सिंगल अकाउंट और ज्वॉइंट अकाउंट दोनों की सुविधा है।10 साल से ज्यादा उम्र के बच्चे का खाता भी खोला जा सकता है, लेकिन उसके देख रेख की जिम्मेदारी अभिभावक की होगी।

Back to top button