सेहत

इस गलती से खराब हो जाता है लीवर, पढ़िए और बचाइए जान

लिवर हमारे शरीर के उन अंगों में से एक है जो निरंतर दिन रात काम करता है और एक से अधिक कामों में अपनी भूमिका निभाता है । लीवर हमारे शरीर का सबसे शक्तिशाली अंग होता है जो हमारे भोजन को पचाने के लिए पित्त का रस , शरीर के काम करने के लिए ऊर्जा , रक्त का शुद्धिकरण जैसे विभिन्न कामों में अपनी भूमिका निभाता है ।

लीवर को शरीर का सबसे शक्तिशाली अंग इसलिए कहा जाता है क्योंकि इसके अंदर अपने आप को पुनः से उत्पन्न करने की क्षमता होती है । अर्थात जिस प्रकार छिपकली की पूंछ पुनः उग सकती है उसी प्रकार हमारे लिवर का कोई अंग कट जाने के बाद भी पुनः उग सकता है । ऐसा इसलिए होता है क्योंकि हमारे भोजन से प्राप्त वसा लिवर में एकत्र हो जाती है और उस वसा से यह अपने आप को पुनर्जीवित कर सकता है । परंतु यही वसा लीवर खराब होने का कारण भी बनती है जिसे फैटी लीवर कहते हैं ।

फैटी लीवर वह बीमारी है जिसके तहत लिवर में फैट अधिक जम जाता है और शारीरिक क्रियाकलापों की कमी के कारण यह फैट दूसरे अंगों तक पहुंचने के बजाय लीवर में ही एकत्र होता रहता है , और इस तरह लीवर में सूजन आने लगती है । धीरे धीरे यह काम करना बंद कर देता है एक कारण यह भी है कि एकत्र हुआ फैट लीवर पित्त के रस के रूप में परिवर्तित कर देता है परंतु उस में असमर्थ होने के कारण भी यह फैट को नष्ट नहीं कर पाता है ।

परिणाम स्वरूप लीवर में सूजन आ जाती है और धीरे-धीरे यह क्षतिग्रस्त होने लगता है । लीवर के द्वारा वसा बनाने में असमर्थ होने का कारण मदिरा का सेवन एवं लंबे समय तक बैठे रहना होता है। इसके अतिरिक्त अधिक फैट वाले भोजन तथा तेलों का इस्तेमाल भी होता है । यदि आप उनसे बचना चाहते हैं तो तत्काल इन्हें बंद कर दें। लीवर को विषाणु ओं से सुरक्षित रखने के लिए हल्दी अथवा तुलसी को सुबह खाली पेट उबालकर पीएं जो शरीर में एंटीऑक्सीडेंट एवं एंटीबॉडी को उत्पन्न कर अधिक वसा एवं कोलेस्ट्रोल को नष्ट कर देता है , और आपका शरीर इन व्याधियों से दूर रह सकता है ।

Back to top button