धर्म

इसलिए जल्द जला दी जाती है लाश, वजह आपको कर देगी हैरान

हिंदू धर्म में यूं तो कई रिवाज़ हैं जिसमें बदलते वक़्त के साथ बदलाव आया है. लेकिन कुछ रिवाज़ ऐसे भी हैं जो सदियों से चले आ रहे हैं और आगे भी ऐसे ही चलने की उम्मीद है. आज हम हिंदू धर्म की एक महत्वपूर्ण रीती के बारे में बात करने जा रहे हैं, जिसे अंतिम क्रिया के नाम से जाना जाता है. हिंदू धर्म में लोगों के मरने के बाद उनकी अंतिम क्रिया की जाती है और इस अंतिम क्रिया का अपना एक अलग ही महत्व होता है.

जानिये क्यों जल्द से जल्द जला दी जाती है मरने वाले की लाश !

आपने कई बार ऐसा देखा होगा कि जब कोई मरता है तो घरवाले उसे जल्द से जल्द जलाने की यानि उसका अंतिम संस्कार करने की बात करते हैं. इसके पीछे कभी आपने सोचा आखिर क्या कारण होगा ? आज हम आपको बताते हैं कि आखिर किस वजह से जल्द से जल्द अंतिम संस्कार किया जाता है.

दरअसल गरुण पुराण के अनुसार यदि घर में कोई लाश है तो सभी प्रकार के शुभ काम रुक जाते हैं, ऐसा इसलिए क्योंकि लाश का होना अशुभ है और ऐसे में घर में आत्मा था और भी ऊपरी खतरा मंडराता है. आपको बता दें जब भी किसी की मौत होती है तो उस घर में चूलाह तक नहीं जलाया जाता है. इतना ही नहीं कई जगह पर तो आस-पास के घरों में भी चूलाह नहीं जलता है. यदि अंतिम क्रिया में देर की जाएँ तो शरीर पर पिशाच कब्ज़ा करने लगते हैं.इसी वजह से लाश के जलते वक्त हाथ-पैर भी बाधं दिए जाते हैं. गरुण पुराण में कई और ऐसी बाते लिखी हैं कि क्यों जलती लाश के सर पर डंडा मारते हैं या फिर क्यों जलती लाश को मुड़कर नहीं देखते हैं ?

Back to top button