देश

आपदा में ‘सरकारी’ अवसर : एक्सप्रेस बनकर दौड़ेंगी पैसेंजर ट्रेनें, यात्रियों की ऐसे काटी जाएगी जेब

नई दिल्ली। लंबी दूरी की पैसेंजर ट्रेन अब जल्द ही एक्सप्रेस व मेल बनकर पटरियों पर दौड़ती नजर आएंगी। देशभर में 200 से ज्यादा पैसेंजर व मेमू ट्रेन व दक्षिण-पूर्व रेलवे में 36 पैसेंजर तथा मेमू ट्रेनों को मेल व एक्सप्रेस बनाने का प्रस्ताव बनाकर रेलवे बोर्ड को भेजा गया है। उत्तर पश्चिम रेलवे की 43 ट्रेनों सहित पूरे भारत में सभी जोनों की 342 पैसेंजर ट्रेनों को रेलवे की आने वाली समय सारणी में एक्सप्रेस में बदला गया है। ट्रेनों की प्रवृति में परिवर्तन के लिए दक्षिण-पूर्व रेलवे जोन ने 36 पैसेंजर ट्रेनों का प्रस्ताव रेलवे बोर्ड को भेजा था। जिस पर रेलवे बोर्ड के उपनिदेशक (कोचिंग) विवेक कुमार सिन्हा ने मंजूरी दे दी। साथ ही परिवर्तित ट्रेनों को नयी समय सारणी में प्रभावी कर चलाने का आदेश दिया है। इसमें चक्रधरपुर रेल मंडल की 12 पैसेंजर ट्रेनें शामिल हैं। देश में चलने वाली सभी जोनों की कुल 342 ट्रेनों को पैसैंजर से बदल कर एक्सप्रेस ट्रेनों का दर्जा दे दिया है। अब इन ट्रेनों का किराया एक्सप्रेस का लगेगा।

रेलवे ने यात्रियों की जेब पर बढ़ाया भार
आदेश मिलने जल्द ही नए दिशा-निर्देश के साथ दक्षिण-पूर्व रेलवे के चक्रधरपुर, रांची, खड़गपुर एवं आद्रा रेल मंडल में मेल व एक्सप्रेस में बदल कर पैसेंजर ट्रेनें चलेंगी। दक्षिण पूर्व रेलवे के नये दिशा- निर्देश जारी होने के बाद ही ट्रेनों के समय व ठहराव एवं यात्रा टिकट दर से जुड़ी जानकारी यात्रियों को मिलेगी। खास बात यह है कि इन सभी ट्रेनों की श्रेणी बदलने के साथ ही यात्रियों की जेब पर भी अब भार बढ़ जाएगा। ट्रेन वहीं रहेगी, सुविधाएं भी वहीं रहेंगी लेकिन एक्सप्रेस के नाम पर यात्रियों की जेब पर भार जरूर बढ़ेगा।

500 किमी की दूरी तय करती है पैसेंजर ट्रेन
रेलवे बोर्ड ने अपने आदेश में ईस्ट कोस्ट रेलवे की 6, सेंट्रल रेलवे की 36, पूर्व रेलवे की 12, कोंकण रेलवे की 6, उत्तर मध्य रेलवे की 6, उत्तर पूर्व रेलवे की 20, उत्तर रेलवे की 20, उत्तर पश्चिम रेलवे की 43, दक्षिण मध्य रेलवे की 47, दक्षिण पूर्व रेलवे की 36, साउदर्न रेलवे की 36, साउथ पश्चिम रेलवे की 32, पश्चिम मध्य रेलवे की 10, पश्चिम रेलवे की 32 ट्रेनें शामिल हैं। बता दें कि 250 से लेकर पांच सौ किलोमीटर की दूरी पैसेंजर ट्रेन द्वारा तय किया जा रहा है। इसका ध्यान रखते हुए वैसे ट्रेनों को एक्सप्रेस व मेल का दर्जा रेलवे बोर्ड द्वारा दिया गया।

इन ट्रेनों को पैसेंजर से एक्सप्रेस में बदला
उत्तर पश्चिम रेलवे की जिन ट्रेनों को पैसेंजर से एक्सप्रेस में बदला है वो इस प्रकार हैं- जोधपुर अबोहर, जोधपुर भटिंडा, जोधपुर से रेवाड़ी, जोधपुर से हिसार, जोधपुर से अहमदाबाद, सुरतगढ से जयपुर, पालनपुर से जोधपुर, जोधपुर से बाड़मेर, बीकानेर से हिसार सहित कुल 43 ट्रेनों को एक्सप्रेस में बदला गया है।

Back to top button