अयोध्या में कल राम मंदिर का भूमि पूजन, जानें कब, कहां और क्या होगा कार्यक्रम

0
85

अयोध्या में राम मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम की तैयारियां जोरों पर हैं और अयोध्या समेत पूरा देश कल यहां राम मंदिर की नींव रखे जाने का इंतजार कर रहा है। पहले ये कार्यक्रम बड़ी धूमधाम से होने जा रहा था, लेकिन कोरोना वायरस महामारी के कारण अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत चुनिंदा लोग ही इसमें शामिल होंगे। आइए जानते हैं कि कल भूमि पूजन के कार्यक्रम में क्या-क्या होगा और इसकी क्या-क्या तैयारियां की गई हैं।

मंच पर मौजूद रहेंगे प्रधानमंत्री समेत चार लोग, कुल 175 को निमंत्रण

भूमि पूजन के कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत केवल चार लोग मंच पर मौजूद रहेंगे। इनमें राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत, उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदीबेन पटेल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के अध्यक्ष महंत नृत्य गोपाल दास शामिल हैं।

महामारी को देखते हुए कार्यक्रम के लिए कुल 175 लोगों को निमंत्रण भेजा गया है जिनमें 36 आध्यात्मिक परंपराओं के 135 संत शामिल हैं।

जन्मभूमि से पहले हनुमानगढ़ी मंदिर पहुंचेंगे प्रधानमंत्री मोदी

प्रधानमंत्री मोदी कल सुबह 9:30 बजे दिल्ली से रवाना होंगे और लखनऊ पहुंचने के बाद हेलीकॉप्टर से अयोध्या के लिए रवाना होंगे।

सुबह 11:30 के आसपास वह अयोध्या पहुंचेंगे और सबसे पहले प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी मंदिर पहुंचेंगे। मुख्य कार्यक्रम के लिए रवाना होने से पहले वह योगी आदित्यनाथ के साथ यहां पूजा करेंगे। रिपोर्ट्स के अनुसार, वह कुल सात मिनट के लिए यहां रुकेंगे जिसमें से तीन मिनट पूजा के शामिल होंगे।

नींव की पहली ईंट रखेंगे प्रधानमंत्री मोदी

दोपहर 12 बजे के आसपास प्रधानमंत्री जन्मभूमि स्थल पर पहुंचेंगे और 12:30 बजे शुरू होने वाले मुख्य कार्यक्रम में हिस्सा लेंगे। मंदिर की पहली ईंट वही रखेंगे। भूमि पूजन के लिए 2,000 पावन तीर्थस्थलों की पवित्र मिट्टी और लगभग 100 पवित्र नदियों का पावन जल मंगाया गया है।

इसके बाद प्रधानमंत्री मोदी, योगी आदित्यनाथ और मोहन भागवत भाषण देंगे औऱ लगभग 2 बजे प्रधानमंत्री अयोध्या से रवाना हो जाएंगे। वह लगभग तीन घंटे के लिए अयोध्या में रहेंगे।

लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को नहीं दिया गया न्योता

राम मंदिर आंदोलन में अहम भूमिका निभाने वाले भाजपा के वरिष्ठ नेताओं लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी को कार्यक्रम का न्योता नहीं दिया गया है और वह वर्चुअल तौर पर कार्यक्रम में मौजूद रहेंगे। न्योता न देने के लिए ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने आडवाणी और जोशी की अधिक उम्र का हवाला दिया है।

वहीं राम मंदिर आंदोलन में शामिल रहीं एक अन्य भाजपा नेता उमा भारती अयोध्या में तो मौजूद होंगी, लेकिन कार्यक्रम में शामिल नहीं होंगी।

मुस्लिम वादी और पद्मश्री विजेता को भी दिया गया न्योता

राम मंदिर के भूमि पूजन के लिए अयोध्या जमीन विवाद में मुस्लिम वादी इकबाल अंसारी को भी न्योता दिया गया है। इसके अलावा लगभग 10,000 लावारिस लाशों का अंतिम संस्कार कर चुके पद्मश्री विजेता मोहम्मद शरीफ को भी कार्यक्रम का न्योता दिया गया है।

निमंत्रण पत्र पर राम लला की एक तस्वीर के साथ यूनिक सिक्योरिटी कोड है, जो केवल एक बार काम करेगा। अगर कोई अतिथि कार्यक्रम से बाहर चला जाता है तो वह फिर अंदर नहीं आ सकेगा।