जरा हट के

अगर आपको मालूम होंगे अपने ये 3 अधिकार, तो कभी नहीं लूट सकेंगे प्राइवेट अस्पताल

जब हमारे स्वास्थ्य में कोई गड़बड़ी आती है तो हमें अस्पताल जाना पड़ता है । लेकिन ऐसा कोई भी इंसान नहीं है जो शौक से अस्पताल जाना चाहता हो। लोगों को मज़बूरी में ही तबीयत खराब होने की स्थिति में अस्पताल के चक्कर काटने पड़ जाते हैं। और लोगों को ना चाहते हुए भी अस्पताल प्रशासन के सामने हाथ जोड़ना पड़ता है यहां तक कि लोगों को उनके सामने गिड़गिड़ाना भी पड़ता है ताकि उनकी जल्दी से देख रेख की जाए ।

यही नहीं इतना के बाद भी वे लोग कई सारे बहाने बना कर उस इंसान को लुटते ही हैं । तो इन सब को देखते हुए हम आपके लिए इस पोस्ट के जरिए कुछ ऐसे नियम ले कर आए हैं जिसे हम सबको जरूर जानना चाहिए । अगर हम इन नियमों को जान लेते हैं तो किसी भी अस्पताल के प्रशासन के लूट से बच सकते हैं । तो चलिए जानते हैं कि हमारे कौन कौन से अधिकार हैं जिसे हम अस्पताल में फॉलो कर सकते हैं –

खर्च जानने का है अधिकार

जब भी हम किसी मरीज को उसके इलाज के लिए अस्पताल ले कर जाते हैं तो हमें ये पूरा अधिकार है कि हम अस्पताल प्रशासन से पूछ सकें की इनके इलाज में कितना खर्च लगा और साथ ही उसका पूरा विवरण भी ले सकते हैं । इसके बाद उस अस्पताल के डॉक्टर आपको बताएंगे कि आपको कौन सी बीमारी है और इसे ठीक करने के लिए कितना खर्चा आएगा । यह अधिकार मरीज को दिया गया है । कोई भी इसके बारे में पूछताछ कर सकता है ।

आपातकाल मेडिकल मदद का अधिकार

हमारा दूसरा अधिकार ये है कि अगर कोई इमरजेंसी से किसी अस्पताल में ले जाया जाता है तो वहां जाने के बाद बिना किसी डिटेल्स के वहां के डॉक्टर्स को प्राथमिक उपचार करना होगा । और इसके लिए कोई भी डॉक्टर मना नहीं कर सकता ।

मेडिकल रिपोर्ट और रिकॉर्ड पर अधिकार

हमारा जो संविधान है हमें इस बात का अधिकार देता है कि किसी भी इंसान को उसके बीमारी के बारे में किसी भी अस्पताल से जुड़े हुए सारे रिकॉर्ड लेने का अधिकार है । इसके अतिरिक्त मरीज को उनकी बीमारी से जुड़े सारे दस्तावेज मांगने का अधिकार है । अगर किसी भी अस्पताल में इन नियमों को ना माना जा रहा हो तो आप उनके खिलाफ कार्रवाई कर सकते हैं ।

Back to top button